BREAKING NEWS
post viewed 170 times

1 मई से लागू रियल एस्टेट सेक्टर को ‘सबक सिखानेवाला’ कानून, लेकिन प्रक्रिया में पीछे अधिकतर राज्य

msid-58443149,width-400,resizemode-4,unitech

सुरेन्द्र/मुंबई

पिछले कुछ सालों से देश के रियल एस्टेट इंडस्ट्री में जो कुछ गड़बड़ियां सामने आई हैं, उसका कारण किसी रेग्युलेटर का नहीं होना है। लेकिन, अब रियल एस्टेट के हालात बदलने वाले हैं क्योंकि 1 मई 2017 से इसका अपना रेग्युलेटर मिलने वाला है। दरअसल, सोमवार से रियल एस्टेट (रेग्युलेशन ऐंड डिवेलपमेंट) ऐक्ट, 2016 पूरे देश में लागू हो जाएगा। हरेक राज्य और केंद्रशासित प्रदेश को अपना रेग्युलेटरी अथॉरिटी बनाना होगा जो ऐक्ट के मुताबिक नियम-कानून बनाएगी।

हालांकि, अब तक सिर्फ मध्य प्रदेश ने कही स्थाई रेग्युलेटरी अथॉरिटी की स्थापना की है। तीन केंद्रशासित प्रदेशों दिल्ली, अंडमान-निकोबार आइलैंड और चंडीगढ़ ने अंतरिम अथॉरिटी गठित की है। इधर, हरियाणा, राजस्थान, कर्नाटक, गुजरात, आंध्र प्रेदश समेत ज्यादातर दूसरे राज्यों ने ऐसा नहीं किया है। यानी, इन राज्यों में कोई नया प्रॉजेक्ट लॉन्च नहीं हो सकता है। इससे रियल एस्टेट सेक्टर को नुकसान पहुंचेगा जो पहले से ही मंदी का सामना कर रहा है।

रेरा में स्पष्ट कहा गया है कि सभी मौजूदा प्रॉजेक्ट्स का रजिस्ट्रेशन संबंधित राज्यों के रेग्युलेटरी अथॉरिटी में जुलाई 2017 तक हो जाना चाहिए। कानून अथॉरिटी में रजिस्ट्रेशन के बिना नया प्रॉजेक्ट शुरू करने से मना करता है। यानी, कोई डिवेलपर तभी किसी प्रॉजेक्ट का रजिस्ट्रेशन करवा सकता है जब नियम नोटिफाइ हो जाएं और अथॉरिटी की नियुक्ती हो जाए। गौरतलब है कि अब तक 6 राज्यों और 6 केंद्रशासित प्रदेशों ने ही नियमों को नोटिफाइ किया है।

Be the first to comment on "1 मई से लागू रियल एस्टेट सेक्टर को ‘सबक सिखानेवाला’ कानून, लेकिन प्रक्रिया में पीछे अधिकतर राज्य"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*