BREAKING NEWS
post viewed 112 times

छात्र जीवन से ही राजनीति से जुड़े रहे नकवी, जानें उनका सफरनामा

mukhtar-abbas-naqvi2

नई दिल्ली: मुख्तार अब्बास नकवी झारखंड से राज्यसभा सदस्य हैं. नकवी अभी तक अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय में स्वतंत्र प्रभार के मंत्री के रूप में जिम्मेदारी संभाल रहे थे.

1986 में बीजेपी में शामिल हुए

नकवी पर भरोसा जताते हुए प्रधानमंत्री ने उन्हें कैबिनेट मंत्री के रूप में प्रोन्नत किया है. जनता पार्टी से विधायक बनने के साथ 1980 के दशक में राजनीति की शुरूआत करने वाले नकवी 1986 में बीजेपी में शामिल हो गए और तब से लगातार पार्टी के प्रमुख अल्पसंख्यक चेहरे के तौर पर जाने जाते हैं.

नकवी मास कम्‍युनिकेशन से पोस्ट ग्रेजुएट हैं

भारतीय जनता पार्टी के उपाध्‍यक्ष मुख्‍तार अब्‍बास नकवी का जन्‍म इलाहाबाद में 15 अक्‍टूबर 1957 को हुआ था. नकवी मास कम्‍युनिकेशन से पोस्ट ग्रेजुएट हैं और उन्होंने मीडिया और कम्‍युनिकेशन में डिप्‍लोमा भी किया है.

छात्र जीवन से ही राजनीति से जुड़े रहे

अपने छात्र जीवन से ही नकवी राजनीति से जुड़े हैं. 1975 में आपातकाल के दौरान वे कई लोक आंदोलनों में हिस्‍सा ले चुके हैं. 1978-79 में युवा जनता (जनता पार्टी की युवा इकाई) के उपाध्‍यक्ष भी रह चुके हैं

 2000 में बीजेपी के राष्‍ट्रीय सचिव बने

1992 से 1997 तक नकवी भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष भी रह चुके हैं. 2000 में नकवी को भारतीय जनता पार्टी का राष्‍ट्रीय सचिव बनाया गया और जनवरी 2006 के बाद से वे पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष हैं.

1998-99 में पहली बार नकवी बारहवीं लोकसभा के सदस्‍य के रूप में निर्वाचित हुए. इसके बाद 2002 की राज्‍यसभा के सदस्‍य निर्वाचित हुए. 2003 में उन्‍हें राष्‍ट्रीय हज कमेटी का सदस्‍य बनाया गया.

लेखक भी हैं नकवी

2010 के राज्‍यसभा चुनावों में भी उन्‍होंने जीत दर्ज की. मई 2011 के बाद वह नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सदस्‍य भी हैं. राजनीति के अलावा नकवी एक लेखक भी हैं और उनकी तीन पुस्‍तकें स्‍याह, 1991, दंगा 1998 और वैशाली 2007 प्रकाशित हो चुकी हैं.

SHAREShare on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0

Be the first to comment on "छात्र जीवन से ही राजनीति से जुड़े रहे नकवी, जानें उनका सफरनामा"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*