BREAKING NEWS
post viewed 17 times

वैज्ञानिकों को भी नहीं मिली ठोस वजह ,उबलते हुए पानी की नदी का राज

01_12_2017-peru
रुज़ो ने नदी का वर्णन एक किताब में किया है ‘द बॉयलिंग रिवर-एडवेंचर एंड डिस्कवरी इन द अमेजॉन’ में दिया है.

 पेरू के जंगलों में एक रहस्यमयी उबलते पानी की नदी है. 25 मीटर चौड़ी और 6 मीटर गहरी इस नदी के पानी का तापमान 50 से 90 डिग्री सेल्सियस तक रहता है और कुछ स्थानों पर 100 डिग्री तक पहुंच जाता है, जिससे आप चाय तक बना सकते हैं. आधा सेकंड से कम समय तक पानी में हाथ डालने से जलने की थर्ड डिग्री तक घाव हो सकते हैं. इसमें गिरने से अनेक छोटे प्राणियों की मौत हो जाती है. अंशानिका के निवासियों के अनुसार यह रहस्यमयी ‘शनय टिम्पिश्का ’ नदी सदियों पुरानी है, जिसका मतलब है ‘सूरज की गर्मी से उबलने वाली नदी’.

1930 तक ऐसे किसी भी उबलती नदी का वैज्ञानिक पुष्टि नहीं मिलती, क्योंकि ऐसी नदी की कल्पना ज्वालामुखी के निकटतम स्थानों पर की जाती सकती है. जबकि अमेज़ॉन बेसिन की यह नदी, एक सक्रिय ज्वालामुखी से 400 मील की दूरी पर स्थित है. मयंतुयकु के निवासियों और कुछ मुट्ठी भर शोधकर्ताओं के अतिरिक्त सारी आबादी सच में उबलती हुई नदी से आज तक अनजान है.

सरकारी तौर पर 2011 में इस नदी की पुष्टि हुई, जब बचपन में सुनी गयी अनेक पौराणिक कथाओं और कहानियों को सुनने के बाद,  भू-वैज्ञानिक एंड्रेस रुज़ो ने 20  साल बाद अपनी आंटी के कहने पर इस रहस्यमयी नदी के सच को जानने में उत्सुकता दिखाई. रुज़ो ने नदी का वर्णन एक किताब में किया है ‘द बॉयलिंग रिवर-एडवेंचर एंड डिस्कवरी इन द अमेजॉन’. नदी में गिरने वाली प्राणियों की दशा का विस्तृत वर्णन करते हुए रुजो कहते हैं कि ‘मैंने बहुत से प्राणियों को इसमें गिरते हुए देखा है, उसके बाद जो होता है वह बहुत ही दयनीय है.

सबसे पहले उनकी आंखे समाप्त होती है और बहुत ही जल्दी सफेद रंग में बदल जाती हैं, वे नदी से बहार निकलने की कोशिश करते हैं पर शरीर का मांस हड्डियों से चिपककर बहुत जल्दी पक जाता है. पानी जब मुंह में प्रवेश करता है तब वे भीतर से भी पूरी तरह पक जाते हैं. 2014 में रुजो ने बताया कि जिस तरह हमारी नसों में खून बहता है, उसी तरह पृथ्वी की दरारों में गरम पानी बहता है, जो प्राकृतिक होने के वाबजूद प्राणियों के लिए प्राणघातक है. बॉइलिंग रिवर को पेरू का राष्ट्रीय मोन्यूमेंट घोषित कराना रुजो का प्राथमिक लक्ष्य है.

Be the first to comment on "वैज्ञानिकों को भी नहीं मिली ठोस वजह ,उबलते हुए पानी की नदी का राज"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*