BREAKING NEWS
post viewed 39 times

मजदूर के बेटे ने अमेरिका में नौकरी को ठुकरा सुनी दिल की और चुनी देश सेवा

10_12_2017-imacadetgh
हैदराबाद में सीमेंट की फैक्ट्री में श्रमिक के बेटे बर्नाना यादगिरी ने अमेरिका में नौकरी के अवसर को ठुकरा कर अपने दिल की सुनी और देश सेवा की राह चुनी।

देहरादून, –: हैदराबाद में सीमेंट की फैक्ट्री में श्रमिक के बेटे बर्नाना यादगिरी ने गरीबी को मात देते हुए सेना में अफसर बनकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। बर्नाना ने आइएमए के टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स में सिल्वर मेडल अपने नाम कराते हुए आर्थिक तंगी व दूसरी चुनौती से पढ़ाई पूरी न कर पाने वालों का हौसला बढ़ाया है। बर्नाना की इस कामयाबी की पासिंग आउट परेड में खूब तारीफ हुई है।

हैदराबाद से लगे कस्बाई गांव में रहने वाले गुरनैया सीमेंट की फैक्ट्री में मजदूरी कर परिवार का पालन-पोषण करते हैं। उनके दो बच्चों में सबसे बड़े बेटे बर्नाना यादगिरी बचपन से प्रतिभा के धनी थी।

सरकारी स्कूल में आर्थिक तंगी के बीच बर्नाना की पढ़ाई हुई। इंटरमीडिएट में बेहतर अंक प्राप्त करने के बाद स्कॉलरशिप मिली तो हालात कुछ अनुकूल हुए। इसके बाद ट्रिपल आइटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की। जॉब के लिए कॉरपोरेट सेक्टर से कई ऑफर आए और अमेरिका जाने का भी मौका था।

मगर, सारे अवसर ठुकरा कर फौज की राह चुनी। आइएमए में ट्रेनिंग के दौरान कड़ी मेहनत कर वह अपने नाम टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स में सिल्वर मेडल दर्ज करा गए। इसके अलावा ट्रेनिंग के दौरान हुई कई एक्टिविटी में भी बेहतर प्रदर्शन किया। बर्नाना कहते हैं कि आर्थिक तंगी व तमाम चुनौतियों से जूझने के बाद उन्होंने जो मुकाम हासिल किया है।

 उसके पीछे उनके पिता गुरनैया की मेहनत है। उन्होंने गरीबी और आर्थिक तंगी से पढ़ाई पूरी न करने और सपने पूरे न कर पाने वालों को संदेश दिया कि कड़ी मेहनत और लगन उनको सफलता पाने से नहीं रोक सकती।

 

Be the first to comment on "मजदूर के बेटे ने अमेरिका में नौकरी को ठुकरा सुनी दिल की और चुनी देश सेवा"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*