BREAKING NEWS
post viewed 42 times

उत्तर प्रदेश विधानसभा में पारित हुआ यूपीकोका विधेयक

21_12_2017-yogi-yogi-in-vs
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आश्वासन दिया कि आप लोग निश्चिंत रहें, यूपीकोका का दुरुपयोग नहीं होगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यूपीकाका का जरा भी दुरुपयोग नहीं होगा।

लखनऊ – मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज विधानसभा में बड़ी घोषण की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा कहा कि प्रदेश में राजनीतिक लोगों पर दर्ज 20 हजार से अधिक मुकदमे वापस होंगे। उत्तर प्रदेश सरकार के यूपीकोका पर शुरू हुए घमासान पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने साफ किया कि यूपीकोका का इस्तेमाल राजनीतिक द्वेष भावना के लिए प्रयोग नहीं किया जाएगा। उत्तर प्रदेश विधानसभा में यूपीकोका विधेयक पारित हुआ।

उत्तर प्रदेश विधानमंडल में 17वीं विधानसभा के पहले शीतकालीन सत्र में आज विपक्ष के यूपीकोका पर लगातार बयानबाजी पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आश्वासन दिया कि आप लोग निश्चिंत रहें, यूपीकोका का दुरुपयोग नहीं होगा। सीएम योगी आदित्यनाथ प्रश्नकाल खत्म होते ही विधानसभा पहुंचे और उन्होंने यूपीकोका का प्रस्ताव सदन में रखा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यूपीकाका का जरा भी दुरुपयोग नहीं होगा। प्रदेश में अभी तक राजनीतिक लोगों पर दर्ज 20  हजार से अधिक मुकदमें वापस होंगे।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विपक्ष तो फिरौती करने वालों का बचाव क्यों कर रहा है। इसके साथ ही विपक्ष हत्या करने वालों का बचाव क्यों करना चाहता है। मेरी इन सब बातों का विपक्ष जवाब दे। क्या गरीबों पर जमीन कब्जा करने वालों पर कार्रवाई नहीं होनी चाहिए।

विधानसभा में यूपीकोका पर चर्चा हो रही है। कल यूपीकोका को लेकर विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया था और आरोप लगाया था कि सत्ताधारी भाजपा राजनीतिक फायदे के लिए इसका प्रयोग करना चाहती है। आज सदन में सीएम योगी आदित्यनाथ ने यूपीकोका को लेकर बहस के दौरान अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि पहले प्रदेश में कोई निवेश को तैयार नही था।

योगी ने कहा कि प्रदेश में कुछ जगहों पर अपराध साजिशन किए जा रहे हैं। दंगों से माफियाराज से उबरने के लिए और संगठित अपराध पर रोकथाम के लिए यूपीकोका कानून ला रहे हैं। उन्होंने कहा कि यूपीकोका का दुरुपयोग नही होगा। किसी पर राजनीतिक द्वेष की भावना से कारवाई नहीं हुई।

योगी ने सदन में कहा कि 2016 की तुलना में 2017 में कम अपराध हुए हैं। पहली बार पुलिस अधीक्षक कार्यालय में एफआईआर काउंटर खोले गए हैं। पुलिस के दबाव में अपराधियों ने समर्पण किया। डर से अपराधी जमानत कटवाकर जेलों में गए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पुलिस कॉन्स्टेबल्स की कमी है। इनकी कमी पूरी करने के लिए होमगार्ड्स की मदद ली जा रही है।

उन्होंने कहा कि सबको जीने का अधिकार है लेकिन दुर्भाग्य से कुछ वर्ष में ऐसा माहौल बना कि लोगों का विश्वास टूटा और प्रदेश की खराब तस्वीर दुनिया में गई। पिछले कुछ वर्ष में गतिविधियों ने आम जन के विश्वास को तोड़ा। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में कोई निवेश को तैयार नही था। प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय आधी हो गई पहले के मुकाबले और लोग निवेश से डरने लगे उन्होंने कहा कि नौ महीने पहले हमने जब सत्ता सम्हाली तो इसे ठीक करने के लिए काम किये गए।

प्रदेश में सभी पर्व त्योहार शांतिपूर्ण सम्पन्न करने के लिए कानून के दायरे में छूट के लिए सरकार ने व्यवस्था की। धार्मिक कार्यक्रमों दीवाली, जन्मास्टमी, ईद का त्योहार शांति से मनाने का प्रयास हुआ। नगर निकाय के चुनाव को शांति पूर्वक सम्पन्न हुआ। उन्होंने कहा कि आम जन सुरक्षा की गारंटी चाहता है। आम आदमी शांति और विकास चाहता है। सरकार ने इस मोर्चे पर खामियों को दूर करने का प्रयास किया। पुलिस अफसरों को फुट पेट्रोलिंग के लिए कहा गया। आठ लाख जगह पर फुट पेट्रोलिंग का काम किया गया। इसके बाद करीब एक लाख 26 हजार मामलों में कार्रवाई हुई।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में बहुत से स्थानों पर बड़ी साजिश को बेनकाब किया गया। इस दौरान पुलिस पर हमले हुए। नौ महीने में 800 से ज्यादा मुठभेड़ हुई। इसमें 2000 से ज्यादा अपराधी गिरफ्तारी हुई, 1400 से ज्यादा पर इनाम था। इसके साथ ही करोड़ों की संपत्तियों जब्त हुई। मुठभेड़ में 25 शातिर अपराधी मारे गए। अपराध की घटनाएं पिछले साल के मुकाबले कम हुई है। हमारी सरकार में अपराध की घटनाओं में गिरावट आई है। अब एसपी दफ्तर में मुकदमा दर्ज हो रहा है। 2700 से ज्यादा अपराधियों ने समर्पण किया या या फिर अपना बेल तुड़वाया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहली बार प्रदेश में पुलिस अधीक्षक कार्यालय में एफआइआर काउंटर खुले। यहां पर शातिर तथा बड़े अपराधियों में जमानतें निरस्त कराई। इसके बाद प्रदेश से बाहर पलायन किया। हमारी सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए सरकार ने काम किया।

इस बार पिछले वर्ष के मुकाबले प्रदेश में महिलाओं पर हुए अपराध में कमी आई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार की प्राथमिकता में कानून-व्यवस्था में सुधार है। हम इसको बेहतर ढंग से कर रहे हैं। इसका बड़ा लाभ सभी को मिल भी रहा है।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने यूपीकोका का विरोध किया था। उन्होंने कहा था कि यह कानून विपक्षी पार्टियों पर लगाया जाएगा। उनके इस आरोप पर योगी ने सदन में जवाब दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सुरक्षा की भावना हो। प्रदेश में निवेश लाने के लिए यूपीकोका लाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने अवैध कार्यों से धन कमाया है यूपीकोका कानून उन पर लगाया जाएगा।

Be the first to comment on "उत्तर प्रदेश विधानसभा में पारित हुआ यूपीकोका विधेयक"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*