BREAKING NEWS
post viewed 177 times

जंगल, जल और पहाड़ औली में मिलेगा प्रकृति के खूबसूरती का हर रंग

auli3(1)
औली पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी हवाई अड्डा देहरादून के पास जौली ग्रांट है, जो जोशीमठ से 273 किलोमीटर दूर है. यहां से बस व टैक्सी से औली पहुंचा जा सकता है.

आप कहीं ऐसी जगह जाना चाहते हैं, जहां पर नदियां, पहाड़ और वाइल्ड लाइफ हो. ऐसे जगह जहां आपको हिल स्टेशन जैसी खूबसूरती के साथ वाइल्ड लाइफ देखने का भी मौका मिले. अगर आप भी ऐसी जगह घूमना-फिरना चाहते हैं तो हम आपको बताते हैं ऐसी जगह के बारे में. औली एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है, जो पूरी दुनिया में स्कीइंग के लिए प्रसिद्ध है. यह खूबसूरत जगह समुद्रतल से 2800मी. ऊपर स्थित है. यहां आपको शंकु के आकार के जंगल देखने को मिलेंगे. औली का इतिहास 8वी शताब्दी में पाया जाता है.

आइए, जानते हैं क्या खास है औली में.

 11_01_2018-travelauli

जंगल के बीच से निकाला गया रास्ता 

औली तक पहुंचने के लिए देश के सबसे तेज स्पीड वाला रोप वे बनाया गया है. देवदार के घने जंगल से होते हुए यह ढलानों के ऊपरी छोर तक पहुंच जाता है. ऊंचाई के कारण ऐसा लगता है कि मानों आप बादल के बीच में उड़ रहे हो. इससे दूर-दर तक बर्फ से ढकी पहाड़ियों को भी आप दूरबीन की मदद से साफ देख सकते हैं. 3048 मीटर की ऊंचाई पर बुग्याल यानि चारागाह स्थित है. धूप के समय यहां की पहाड़ियां ऐसी दिखती है जैसे रूई बिछी हो.

यहां घूमना न भूलें 

’गुरसो बुग्याल’ एक खूबसूरत जगह है, जो गर्मियों में बहुत हरीभरी रहती है. यह जगह कोनिफर और ओक के हरेभरे जंगलों से घिरी हुई है. जोशीमठ से रज्जुमार्ग के द्वारा पर्यटक यहां पहुंच सकते हैं. गुरसो बुग्याल के पास ’छत्तरकुंड झील’ नामक ऐ छोटा सा जलाशय है. औली के पास स्थित छोटे से गांव ’सैलधर तपोवन’ में यात्री एक प्राकृतिक झरना और एक मंदिर भी देख सकते हैं. औली की बर्फीली ढलानों पर स्कींइग का भरपूर मजा लिया जा सकता है. अल्पाइन स्कीइंग, नार्डिक स्कीइंग तथा टेलीमार्क स्कीइंग का आनंद लेने के लिए ये ढलानें बेहतरीन हैं. एशिया की सबसे लंबी केबल कार औली में है, जो 4 किमी की दूरी तय करती है. केबल कार को गोंडोला कहते हैं, जिसमें चेअर लिफ्ट और स्की लिफ्ट की सुविधा उपलब्ध है.

कैसे पहुंचे औली 

औली पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी हवाई अड्डा देहरादून के पास जौली ग्रांट है, जो जोशीमठ से 273 किलोमीटर दूर है. यहां से बस व टैक्सी से औली पहुंचा जा सकता है. नजदीकी रेलवे स्टेशन हरिद्वार है, जो यहां से तकरीबन 299 किलोमीटर दूरी पर स्थित है.

कहां ठहरें 

यहां ठहरने के लिए गढ़वाल विकास निगम ने एक गेस्ट हाउस बनाया हुआ है जिसमें लगभग 110 रूम हैं. सभी तरह के बजट वालों के लिए यह सुविधाजनक है. भारत-तिब्बत पुलिस का भी यहां पर रेस्टोरेंट है. आप यहां से घूमने के बाद ठहरने के लिए जोशीमठ भी जा सकते हैं. जोशीमठ में ढेरों होटल व गेस्ट हाउस हैं.

घूमने के लिए बेस्ट टाइम 

हिल स्टेशन होने के कारण हर मौसम का आनंद लिया जा सकता है लेकिन नवंबर से अप्रैल के बीच का मौसम वहां घूमने जाने के लिए बेस्ट होता है.

SHAREShare on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0

Be the first to comment on "जंगल, जल और पहाड़ औली में मिलेगा प्रकृति के खूबसूरती का हर रंग"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*