BREAKING NEWS
post viewed 67 times

समाज अच्छा पर ऊपर से नीचे तक काली भेड़ें भी हैं : नाईक

12_01_2018-ram_naik
जमीन के विवाद से जुड़े मथुरा के जवाहर बाग जैसे मामलों में सतर्कता बरतने के साथ ही राज्यपाल ने निर्धारित कार्य से कुछ अधिक करने के लिए भी अधिकारियों को प्रोत्साहित किया।

लखनऊ-राज्यपाल राम नाईक ने स्टांप एवं निबंधन अधिकारियों को सतर्क रहने की नसीहत देते हुए कहा कि समाज अच्छा है, लेकिन काली भेड़ें भी है । देखना यही होगा कि यह अपने काम के बीच न आने पाएं। जमीन के विवाद से जुड़े मथुरा के जवाहर बाग जैसे मामलों में सतर्कता बरतने के साथ ही राज्यपाल ने निर्धारित कार्य से कुछ अधिक करने के लिए भी अधिकारियों को प्रोत्साहित किया।

उप्र स्टांप एवं निबंधन अधिकारी संघ के दो दिवसीय वार्षिक अधिवेशन के दूसरे दिन राज्यपाल राम नाईक के साथ विभागीय मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी और शुक्रवार को ही काम संभालने आइजी स्टांप सीताराम यादव सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि स्टांप व निबंधन अधिकारियों का काम अब बढऩे जा रहा है। अब तक सिर्फ जमीन की खरीद-फरोख्त के मामले आ रहे थे, लेकिन अब विवाह की रजिस्ट्री सहित अन्य व्यवहार भी काम बढ़ा रहे हैैं। राज्यपाल ने चुटकी लेते हुए कहा कि प्रदेश की 22 करोड़ आबादी में से दो करोड़ लोग हर साल रजिस्ट्री दफ्तरों में अधिकृत तौर पर जाते हैैं, जबकि अनधिकृत तौर पर जाने वाले क्या करते हैैं, यह सब जानते हैैं।

स्टांप अधिकारियों से राज्यपाल ने प्रामाणिकता के साथ काम करने को कहा। उन्होंने कहा कि मकानों की रजिस्ट्री कई पीढिय़ों तक रखी जाती है। अधिकारियों से उन्होंने मांगपत्र के साथ विभागीय मंत्री से मिले आश्वासन का भी ब्योरा देने को कहा। राज्यपाल ने बताया कि उनकी ही पहल पर पूर्व विधायकों को राज्य चिह्न प्रयोग करने से रोका गया है। नाईक ने कहा कि केंद्र सरकार में तो अशोक चिह्न के गलत प्रयोग को लेकर कानून है, लेकिन प्रदेश में ऐसा कानून नहीं बना है। स्वामी विवेकानंद की जयंती पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि स्वामी जी ने 30 साल की आयु में बिना समर्थन शिकागो की सर्वधर्म परिषद में चेतना का स्वरूप दिखाया था। विभागीय मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी ने मौजूदा वित्तीय वर्ष के 17400 करोड़ रुपये के मुकाबले अब तक नौ हजार करोड़ रुपये का राजस्व संग्रह होने का हवाला देते हुए अधिकारियों से काम में तेजी लाने को कहा।

नहीं सुनी थी अखिलेश ने
राज्यपाल ने सरकारी जमीनों से अतिक्रमण हटाने से लेकर उप्र दिवस मनाने तक के मुद्दों पर सपा सरकार के मुख्यमंत्री रहे अखिलेश यादव को भी घेरा। सरकारी जमीनों पर अतिक्रमण को लेकर चिंता जताते हुए राज्यपाल ने बताया कि उन्होंने अखिलेश यादव से तहसील से जिलों तक के अतिक्रमण पर श्वेत पत्र लाने को कहा था, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। उप्र का स्थापना दिवस मनाने का सुझाव भी उन्होंने अखिलेश यादव को दिया था, लेकिन उन्हें पसंद नहीं आया, जबकि योगी आदित्यनाथ को यह सुझाव पसंद आया और 24 जनवरी को शिल्प ग्राम में हर जिले की विशेषता प्रदर्शित करते हुए आयोजन किया जा रहा है।

आइएएस अधिकारियों की एसोसिएशन पर हैरत
स्टांप व निबंधन अधिकारी संगठन के अधिवेशन में राज्यपाल ने कहा कि पहले बात होती थी कि संगठन केवल तृतीय व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों का होना चाहिए, लेकिन अब अधिकारियों के भी संगठन हैैं। राज्यपाल ने कहा कि उत्तर प्रदेश अकेला ऐसा राज्य है, जहां आइएएस अधिकारियों की भी एसोसिएशन है।

इसलिए मनाएंगे उत्तर प्रदेश का स्थापना दिवस
राज्यपाल ने प्रदेश का स्थापना दिवस 24 जनवरी को मनाए जाने की वजह पूछते हुए स्टांप व निबंधन अधिकारियों से हाथ उठाने को कहा तो कोई अधिकारी नहीं बता पाया। राज्यपाल ने उन्हें बताया कि वर्ष 1950 में 26 जनवरी को संविधान लागू होने से दो दिन पहले 24 जनवरी को भारत सरकार ने यूनाइटेड प्रॉविंस का नाम बदल कर उत्तर प्रदेश किया था।

SHAREShare on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0

Be the first to comment on "समाज अच्छा पर ऊपर से नीचे तक काली भेड़ें भी हैं : नाईक"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*