BREAKING NEWS
post viewed 30 times

आधार से कनेक्ट होंगे पहलवान, फेडरेशन ने की ये पहल

how-to-apply-for-Aadhar

WFI का मानना है कि आधार कार्ड की अनिवार्यता से कुश्‍ती में उम्र की धोखाधड़ी पर रोक लगाई जा सकेगी.

 नई दिल्‍ली: आधार कार्ड को सरकार ने अभी तक बैंक खातों, मोबाइल, गैस सब्सिडी सहित अन्‍य सुविधाओं के लिए जरूरी किया है जिससे कि आम आदमी तक इन सुविधाओं का ठीक तरीके से लाभ पहुंच सके. ऐसे में अब भारतीय कुश्‍ती संघ(WFI) ने सभी वर्गों के खेलों में आधार कार्ड को अनिवार्य बना दिया है. WFI का मानना है कि आधार कार्ड की अनिवार्यता से कुश्‍ती में उम्र की धोखाधड़ी पर रोक लगाई जा सकेगी. WFI के अनुसार, आधार से पहले खिलाड़ी नए दस्तावेज पेश कर आसानी से उम्र में धोखाधड़ी और झूठे आवास सर्टिफिकेट पेश कर संबंधित खेलों में हिस्‍सा ले लेते थे. इस नियम के लागू हो जाने के बाद वह ऐसा नहीं कर पाएंगे.

अगर कोई खिलाड़ी अपना राज्य छोड़कर किसी दूसरे राज्य से खेलना चाहता है, तो ऐसे मामले में उन खिलाड़ियों को अपने मूल राज्य से प्रमाणपत्र लेना अनिवार्य होगा। WFI के सचिव विनोद तोमर ने कहा कि इस फैसले के बाद राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय स्तर की कुश्ती के लिए अब आधार को सभी तरह की सीनियर, जूनियर और कैडेट कैटिगरी के लिए अनिवार्य बना दिया है.

आधार से WFI के पास होगा रेसलर्स का डाटा
तोमर ने कहा कि आधार से हमारे पास कुश्‍ती में भाग लेने वाले खिलाडि़यों का पूरा डाटा उपलब्ध होगा. इसको हम अपने पास आसानी से सुरक्षित कर सकेंगे. इसकी सहायता से हम यह जान सकेंगे कि किसी पहलवान ने कब कौन सी प्रतियोगिता जीती थी और उस वक्त उसकी उम्र क्या थी. ये रिकॉर्ड हमें यह भी बता पाएंगे कि किसी पहलवान ने किस स्थान पर कौन सा टूर्नामेंट जीता है. ये सभी सूचनाएं आधार की मदद से रिकॉर्ड की जा सकती हैं. हाल ही में छह जूनियर पहलवानों पर एक साल का प्रतिबंध लगाया है. ये सभी पहलवान अपनी सही उम्र से कम उम्र की प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले रहे थे. यह जूनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप में हुई थी, जो जयपुर में 22 फरवरी से 25 तक हुई थी.

करियर में आगे नहीं बढ़ पाने वाले पहलवानों के लिए मील का पत्‍थर
WFI के सचिव विनोद तोमर ने यह भी बताया कि यह कदम ऐसे पहलवानों के लिए फायदेमंद होगा, जो अपने करियर में आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं, क्योंकि वहां ऐसे खिलाड़ी हैं जो अवैध निवास स्थान दिखाकर अपनी जगह तोड़ देते हैं. कई पहलवान नकली प्रमाणपत्र बनाते हैं और फर्जी दस्तावेज दिखाकर जूनियर स्तर पर खेलने के लिए वापस आते हैं, ऐसे खिलाड़ियों को अब आसानी से पकड़ा जाएगा.

Be the first to comment on "आधार से कनेक्ट होंगे पहलवान, फेडरेशन ने की ये पहल"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*