आस्‍ट्रेलिया के गोल्‍ड कोस्‍ट में राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा खिलाडियों का जलवा जारी है। शनिवार को भी हरियाणा के दो खिलाडि़यों ने पदक जीतकर देश का नाम ऊंचा किया है। यमुनानगर के संजीव राजपूत ने शूटिंग में गोल्‍ड मेडल जीता तो आे‍लंपिक पदक विजेता महिला पहलवान साक्षी मलिक ने कांस्‍य पदक जीता। साक्षी से स्‍वर्ण पदक की उम्‍मीद थी।

यमुनानगर के जगाधरी के कल्याणनगर निवासी निशानेबाज संजीव राजपूत ने 50 मीटर शूटिंग में स्वर्ण पदक जीत लिया है। इससे पहले भी संजीव कई पदक अपने नाम कर चुके हैं। नौसेना में कार्यरत संजीव दिल्ली में रहते हैं और अपने माता-पिता के इकलौते पुत्र हैं। दो बार के ओलिंपियन राजपूत ने पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशस में राष्‍ट्रमंडल खेलों का नया रिकॉर्ड बनाया।

जगाधरी में घर पर जश्‍न मनाते संजीव के पिता व अन्‍य परिजन।

37 साल के राजपूत ने 454.5 का स्कोर कर स्वर्ण जीता। वह क्वॉलिफिकेशन चरण में 1180 अंकों के साथ शीर्ष पर थे। भारत के चैन सिंह 419.1 का स्कोर कर पांचवें स्थान पर रहे। संजीव के स्‍वर्ण पदक जीेतने पर उनके जगाधरी स्थित घर पर जश्‍न का माहौल है। उनके परिजनों ने लोगों का मुंह मीठा कराया। संजीव के पिता कृष्‍णलाल राजपूत और माता ऊषा राजपूत बेटे की कामयाबी पर फूले नहीं समा रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि बेटे ने गर्व से सिर ऊंचा उठा दिया।

पदक जीतने के बाद साक्षी मलिक।

उधर, आेलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक ने देश को कांस्‍य पदक दिलाया। साक्षी से स्‍वर्ण पदक की उम्‍मीद थी। साक्षी के पदक जीेतने पर रोहतक में खुशी है। शहर के खेलप्रेमियों का कहना था कि साक्षी से गोल्‍ड मेडल की उम्‍मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। फिर भी देश के लिए साक्षी के पदक जीतने पर उन्‍हें खुशी है।