झारखंड में बेटियों की आबरू से खिलवाड़ की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं। गुमला के घाघरा में एक दिन पहले छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आने के बाद अब जारी प्रखंड में एक छात्रा व एक महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला प्रकाश में आया है। दोनों पीड़िताओं के बयान पर जारी थाना में दुष्कर्म की प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। वहीं, दोनों आरोपी फरार हो गए हैं।

 बताया जाता है कि जारी प्रखंड के एक गांव में 11 अप्रैल को 11वीं की एक स्कूली छात्रा व एक महिला जंगल में लकड़ी लाने गई थीं। इसी दौरान भीखमपुर निवासी बादल सिंह और एक अन्य युवक विनय सिंह वहां पहुंचा और हथियार दिखाकर दोनों को डराने-धमकाने लगा। साथ ही, जंगल से लकड़ी नहीं काटने की बात कही। इस पर पीड़िता ने बताया कि वे दोनों पेड़ की सूखी टहनियां चुनने आई हैं। इसके बाद आरोपितों ने दोनों से थोड़ी दूर साथ चलकर तेतरटोली जाने का रास्ता बताने का अनुरोध किया। जब पीड़िता ने इन्कार किया तब उन्हें धमकाने लगे। इसके बाद दोनों रास्ता दिखाने को तैयार हो गई। साथ में मौजूद एक अन्य बुजुर्ग महिला को वहीं रहने को कहा गया। कुछ दूर आगे ले जाकर दोनों आरोपित छात्रा और महिला को बंदूक के बल पर घने जंगल में ले गए और दोनों के हाथ-पैर बांधकर सामूहिक दुष्कर्म किया।

पीड़िताओं के अनुसार, घटना के बाद दोनों आरोपितों ने कहा कि घटना की जानकारी यदि किसी को दी तो जान से मार दिया जाएगा। घटना की जानकारी साथ में जंगल गई बुजुर्ग महिला ने देर रात ग्रामीणों को दी। इसके बाद सुबह इस मामले को लेकर गांव में पंचायत हुई, जिसमें ग्रामीणों का काफी आक्रोश दिखा। घटना से आक्रोशित बड़काडीह, डुमरटोली, डुमरपानी के सैकड़ों ग्रामीण पारंपरिक हथियार लेकर जंगल में आरोपियों की खोजबीन करते रहे। उधर, डूमरपानी गांव के कोरवा जाति के लोग धनुष लेकर जंगल में आरोपितों की खोजबीन करते रहे।

एसपी अंशुमान कुमार ने कहा कि घटना घटी है। पुलिस जल्द ही आरोपितों को गिरफ्तार कर लेगी। जारी थाना प्रभारी अरविंद कुमार ने बताया कि पीड़िताओं ने बादल सिंह व बिनय सिंह के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया है। पीड़िताओं को मेडिकल जांच के लिए गुमला भेजा गया है। इसके बाद पीड़िताओं का 64 का बयान कराया जाएगा। पुलिस आरोपियों की तलाश में छापेमारी कर रही हैं। उधर, पंचायत के मुखिया रजनी मिंज ने पुलिस से इस मामले में सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।