इंजरी से उबरने के बाद सुशील कुमार के लिए कॉमनवेल्थ गेम्स इंटरनेशनल लेवल पर पहला बड़ा दंगल था, जिसमें वो गोल्डन दांव लगाने में कामयाब रहे.