BREAKING NEWS
post viewed 87 times

नोटबंदी से लेकर शौचालय तक, ‘भारत की बात’ में पीएम की 10 बड़ी बातें

narendr-modi-in-london

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात लंदन के वेस्टमिंस्टर सेंट्रल हॉल में ‘भारत की बात सबके साथ’ कार्यक्रम में कई मुद्दों पर बात की.

 लंदन. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात लंदन के वेस्टमिंस्टर सेंट्रल हॉल में ‘भारत की बात सबके साथ’ कार्यक्रम में कई मुद्दों पर बात की. कठुआ गैंगरेप, सर्जिकल स्ट्राइक, गैस सब्सिडी, अपनी किताब, नोटबंदी, अपनी गरीबी, अपनी कार्यशैली सहित सभी मुद्दे पर बात की. इस कार्यक्र में दुनिया भर से 2 हजार लोगों ने हिस्सा लिया.

आइए जानते हैं इस कार्यक्र में पीएम की क्या 10 बड़ी बातें रही हैं…

सर्जिकल स्ट्राइक
पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंक को निर्यात करने वालों को मोदी उन्हीं की भाषा में जवाब देता है. किसी ने निर्यात की फैक्ट्री लगा ली हो और हम पर पीछे से हमले की कोशिश कर रहा हो ता मोदी उसी की भाषा में जवाब देना जानता है. इस दौरान एक शख्स ने सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र किया तो पीएम ने कहा, भारत बदल गया है. हमें सेना पर गर्व है. उन्होंने सटीकता से सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया और सुबह होने से पहले अपना काम पूरा करके लौट आई. उन्होंने कहा कि हमने हमले के बारे में पहले पाकिस्तान का सूचित किया और फिर मीडिया से बात की. हम पाकिस्तान से रात 11 बजे से बात करने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन वे फोन पर आने से डर रहे थे. 12 बजे हमारी उनसे बात हुई.

नोटबंदी
नोटबंदी का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा, भारत में नोटबंदी की जानकारी मिलते ही मेरे दोस्त और अर्जेंटीना के राष्ट्रपति ने अपनी पत्नी से कहा कि मेरा दोस्त गया. उस दौरान टीवी पर सरकार की आलोचना हो रही थी. लेकिन मुजे देशवासियों पर भरोसा था. देश ईमानदारी के लिए जूझा. इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं बहुत सौभाग्यशाली हूं कि लोग मुझ पर पत्थर मार रहे हैं सवा सौ करोड़ देशवासियों पर नहीं.

किताब पढ़कर गरीबी सीखने की जरूरत नहीं
पीएम ने कहा, मैंने किताब पढ़कर गरीबी नहीं सीखी. मैंने गरीबी को टीवी पर नहीं देखकर सीखा. मैं इससे जद्दोजहद करके यहां तक पहुंचा हूं. गांधी ने कहा था कि तराजू से किसी चीज को तौलते हैं तो ये देखना चाहिए कि आखिरी छोर पर बैठे इंसान को क्या मिल रहा है. ये बात मेरे दिमाग में बैठ गई है. उन्होंने कहा कि मैं औलिया हूं. ऐसे हालात में पला हूं कि किसी चीज का असर नहीं पड़ता.

आलोचना लोकतंत्र की खूबी
पीएम ने कहा, मैं मानता हूं कि मोदी सरकार की भरपूर आलोचना होनी चाहिए. इसी से लोकतंत्र पनपता है और सरकारें सतर्क रहती हैं. मैं आलोचना को सौभाग्य मानता हूं. आलोचना के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है, लेकिन अब ऐसी आपाधापी है कि लोगों ने आलोचना की जगह आरोप लगाना सीख गया है. ये लोकतंत्र के लिए खतरनाक है.

खुले में शौच
इस मुद्दे पर पीएम ने कहा, पहले महिलाएं सूर्योदय से पहले और सुर्यास्त के बाद ही शौचालय जाती थी. घरों में शौचालय नहीं थे. ऐसे में वह शारिरिक पीड़ा को सहने के लिए मजबूर रहती थीं. मैंने इन चीजों को देखा तो ये मुजे सोने नहीं देती थी. आज हमारे प्रयास से 300 गांव खुले में शौच से पूरी तरह से मुक्त हो गए हैं.

घर-घर बिजली
पीएम ने कहा, मैंने लाल किले के प्राचीर से कहा था कि आजादी के इतने साल बाद भी 18 हजार गांवों में बिजली नहीं पहुंची है. हालांकि, इसका मतलब ये भी है कि बाकी के गांवों में पहुंची हैं और ऐसा करने वालों को सलाम. इतने गांवों में बिजली पहुंचाने के लिए अफसरों ने मुझसे 7 साल का समय मांगा. मैंने कहा कि इतना इंतजार नहीं हो सकता. हमारे प्रयास का ही नतीजा है कि अब लगभग सभी गांवों में बिजली पहुंच गई है.

मोदी इतिहास में जगह बनाने के लिए पैदा नहीं हुआ
पीएम ने कहा, मोदी इतिहास में जगह बनाने के लिए पैदा नहीं हुआ है. दुनिया के सबसे पुराने ग्रंथ वेद को किसने लिखा है, इसके बारे में किसी को भी जानकारी नहीं है. ऐसे में मोदी क्या है? मुझे सवा सौ करोड़ भारतीयों की तरह ही याद किया जाए.

सीएम के दौर को याद किया
पीएम मोदी ने कहा, साल 2011 में मैं पहली बार सीएम बना था. मेरे लिए यह चुनौती भरा टास्क था. मैं कभी पुलिस थाने नहीं गया था. यहां तक की सरकारी दफ्तर नहीं गया था. शपथ लेने से पहले लोग मिलने आते और कहते कि कुछ करो या न करो बस रात को खाते समय बिजली मिलनी चाहिए. 2-3 साल काम करने के बाद ही मैंने गुजरात को ऐसा राज्य बना दिया, जहां 24 घंटे बिजली मिलने लगी.

कांग्रेस पर निशाना
पीएम ने कहा कि पहले गैस सिलेंडर पर देश में चुनाव लड़े जाते थे. सब्सिडी दी जाती थी. लेकिन हमने अपील की कि सब्सिडी छोड़ दी जाए. हमें सरकार नहीं देश चलाना है. जनता ही शक्ति है उसे लेकर चलना है. उन्होंने कहा कि जिस दिन मेरे भीतर की बेसब्री खत्म हो जाएगी, किसी काम का नहीं रह पाउंगा.

कठुआ गैंगरेप
पीएम ने जम्मू कश्मिर के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ हुए गैंगरेप पर भी बोला. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर आरोप प्रत्यारोप नहीं होना चाहिए. हम एक बेटी के साथ अत्याचार कैसे सहन कर सकते हैं? पीएम ने रेप की घटनाओं की जिक्र करते हुए लाल किले से दिए अपने भाषण का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, मैंने लाल किले से कहा था कि बेटियों से सवाल करने वाले बेटों से क्यों नहीं सवाल करते हैं? बेटियों के साथ इस तरह का जघन्य अपराध करने वाला किसी न किसी का तो बेटा ही है.

SHAREShare on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0

Be the first to comment on "नोटबंदी से लेकर शौचालय तक, ‘भारत की बात’ में पीएम की 10 बड़ी बातें"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*