BREAKING NEWS
post viewed 47 times

लीवर पर भारी पड़ सकती है बार-बार ग्रीन टी पीने की आदत

green-tea

ग्रीन टी में पाए जाने वाले कुछ तत्व लीवर की सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं.

 ब्रूसेल: ग्रीन टी को लेकर हालिया अध्ययन की रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे किए गए हैं. अध्ययन की रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि ग्रीन टी में पाए जाने वाले कुछ सप्लिमेंट्स लीवर से जुड़ी बीमारियों का कारण बन सकते हैं. यह अध्ययन यूरोपीय सेफ्टी ऑथोरिटी (EFSA) ने किया है. EFSA   के शोधकर्ताओं का कहना है कि ग्रीन टी में मौजूद कुछ तत्व लीवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं.

 EFSA ने बताया कि आजकल तेजी से लोग इनफ्यूजन टी का चलन है. इसके साथ ही इंस्टैंट टी के रूप मेंं लोग ग्रीन टी भी पी रहे हैं. इनकी सबसे अच्छी बात यह है कि इनमें एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं और संक्रामक रोगों से बचाव में मददगार होता हैं. लेकिन एंटीऑक्सीडेंट युक्त ग्रीन टी का बहुत ज्यादा सेवन करना लीवर की सेहत के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है.

यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि ग्रीन टी में सप्लीमेंट का कितना स्तर है. यानी ग्रीन टी में कितने mg का सप्लीमेंट है इस बात पर लीवर की सेहत भी निर्भर करती है. आमतौर पर 5 से 1000 mg तक इस्तेमाल किया जाता है. इनफ्यूूूूजन मेंं जबकि 90 से 300 mg होता है.

शोधकर्ताओं के अनुसार 800 mg से ज्यादा का सेवन सेहत के लिए चुनौतियां खड़ी कर सकता है. EFSA अध्ययनकर्ताओं ने बताया कि हालांकि सीमित मात्रा में ग्रीन टी का सेवन करना सेहत के लिए लाभकारी साबित हो सकता है.

अगर आप ग्रीन टी इनफ्यूजन का सेवन करते हैं तो इसमें कोई खतरा नहीं है. क्योंकि इनमें एंटीऑक्सीडेंट का केंद्रीकरण कम होता है.

Be the first to comment on "लीवर पर भारी पड़ सकती है बार-बार ग्रीन टी पीने की आदत"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*