BREAKING NEWS
post viewed 42 times

केंद्र की संघर्षविराम पहल का सकारात्मक असर पड़ने की उम्मीद : DGP

237493-236590-vaid-1

डीजीपी ने कहा , ‘मुझे उम्मीद है कि केंद्र सरकार की इस (एकतरफा संघर्षविराम) पहल का आतंकवाद प्रायोजित करने वालों सहित हर किसी पर सकारात्मक असर पड़ेगा.’

जम्मू: जम्मू कश्मीर पुलिस के महानिदेशक एस पी वैद ने रविवार को उम्मीद जताई कि रमजान के महीने में राज्य में आतंकवाद रोधी अभियान रोकने के केंद्र के फैसले का आतंकवाद प्रायोजित करने वालों सहित सब पर सकारात्मक असर पड़ेगा. वैद ने विश्वास जताया कि अगले महीने दक्षिण कश्मीर के हिमालय में अमरनाथ की पवित्र गुफा के लिए वार्षिक यात्रा शांतिपूर्ण रहेगी .

डीजीपी ने एक कार्यक्रम के इतर संवाददाताओं से कहा , ‘मुझे उम्मीद है कि केंद्र सरकार की इस (एकतरफा संघर्षविराम) पहल का आतंकवाद प्रायोजित करने वालों सहित हर किसी पर सकारात्मक असर पड़ेगा.’ उन्होंने कहा, ‘यह कदम रमजान के पवित्र महीने में उठाया गया है और रमजान की तरह (अमरनाथ) यात्रा भी बेहद पावन है. मैं आश्वस्त हूं कि यह शांतिपूर्ण बीतेगा.’

कश्मीर में अभियान रुकने से पीएम मोदी पर लोगों का विश्वास बढ़ा : महबूबा
इससे पहले शनिवार को जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्य में आतंकवाद विरोधी अभियान रोकने की घोषणा करने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया था और कहा कि इस कदम से उन पर लोगों का विश्वास बढ़ गया है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 330 मेगावाट की किशनगंगा विद्युत परियोजना का उद्घाटन किये जाने के मौके पर कहा था, ‘निश्चित ही यह एक बड़ा कदम है जिसके लिए साहस की जरुरत है। आपने वह साहस दिखाया है।’

महबूबा मुफ्ती ने कहा , ‘न केवल राजनीतिक दल बल्कि राज्य में हर व्यक्ति उसके जख्म पर मरहम लगाने को लेकर आपके प्रति आभारी है। राज्य की जनता हिंसा के दलदल से उबरने के लिए इस कदम के जवाब में शाति के मार्ग पर 10 कदम चलने को तैयार है।’ महबूबा ने कहा, ‘यहां लोग मानते हैं कि यही वो प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने यह साहसपूर्ण कदम उठाया है और यही वो हो सकते हैं जिनमें आगे बढ़ने और जम्मू कश्मीर के लोगों को वर्तमान स्थिति से बाहर निकालने की ताकत है

Be the first to comment on "केंद्र की संघर्षविराम पहल का सकारात्मक असर पड़ने की उम्मीद : DGP"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*