BREAKING NEWS
post viewed 31 times

गोवा की आजादी के लिए राममनोहर लोहिया ने 18 जून, 1946 को गोवा पहुंचकर पुर्तगालियों के खिलाफ आंदोलन शुरू किया था आंदोलन

Goa-liberation-day

नई दिल्ली: भारत 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ, लेकिन आजाद भारत का एक हिस्सा ऐसा भी था जहां उस वक्त भी विदेशियों का शासन था. यह हिस्सा था तटीय नगर गोवा, जो पुर्तगालियों के कब्जे में था.

दरअसल 1946 में जब यह साफ हो गया कि अंग्रेज अब भारत में अधिक समय तक अपना शासन नहीं चला पाएंगे तब राष्ट्रीय नेता यह मानकर चल रहे थे कि अंग्रेजों के साथ-साथ पुर्तगाली भी गोवा छोड़कर चले जायेंगे. हालांकि स्वतंत्रता सेनानी एवं समाजवादी विचारधारा में यकीन रखने वाले राममनोहर लोहिया इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते थे. लोहिया ने 18 जून, 1946 को गोवा पहुंचकर पुर्तगालियों के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया. इस आंदोलन में हजारों गोवावासी शामिल हुए. हालांकि कई साल के संघर्ष के बाद गोवा को 1961 में आजादी मिली.

18 जून की तारीख पर इतिहास में दर्ज अन्य घटनाओं का सिलसिलेवार ब्योरा इस प्रकार है:-

1576: महाराणा प्रताप और अकबर के बीच हल्दीघाटी का युद्ध शुरू हुआ.
1812: अमेरिका के राष्ट्रपति जेम्स मेडिसन ने ब्रिटेन के खिलाफ युद्ध की घोषणा की.
1815: वाटरलू के युद्ध में नेपोलियन बोनापार्ट को हार का सामना करना पड़ा.
1941: तुर्की ने नाजी जर्मनी के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए.
1956: हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम पारित हुआ.
1972: ब्रिटिश यूरोपियन विमान 548 उड़ान भरने के तुरंत बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया. हादसे में विमान में सवार 118 लोगों की मौत हो गई.
1979: अमेरिका और सोवियत संघ के बीच हथियार नियंत्रण समझौता हुआ.
2009: नासा ने चांद पर पानी की तलाश में टोही विमान भेजा.

Be the first to comment on "गोवा की आजादी के लिए राममनोहर लोहिया ने 18 जून, 1946 को गोवा पहुंचकर पुर्तगालियों के खिलाफ आंदोलन शुरू किया था आंदोलन"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*