BREAKING NEWS
post viewed 80 times

महागठबंधन में नीतीश की इंट्री से पहले जीतन राम मांझी ने रखी शर्त

Jeetanram-Manjhi

कभी सीएम नीतीश कुमार के करीबी रहे पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी अब राजद की अगुआई वाले महागठबंधन का हिस्सा हैं.

 पटना. राजनीति में कोई अपना नहीं होता. एक दल या विचारधारा के नेता भी एक-दूसरे की विपरीत राह पर चल निकलते हैं. बिहार के संदर्भ में आज यह बात मौजूं है. दरअसल, कभी सीएम नीतीश कुमार के करीबी रहे पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी अब राजद की अगुआई वाले महागठबंधन का हिस्सा हैं. अभी जब बिहार राजग में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सीटों के बंटवारे को लेकर तकरार चल रही है और सीएम नीतीश कुमार के फिर से महागठबंधन में आने से संबंधित बयान मीडिया की सुर्खियां बन रहे हैं, मांझी का एक बयान चर्चा में आया है. पूर्व सीएम और हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के नेता जीतनराम मांझी ने नीतीश कुमार के महागठबंधन में वापसी को लेकर शर्त रख दी है. उन्होंने कहा है कि अगर नीतीश कुमार महागठबंधन में लौटते भी हैं, तब भी वर्ष 2020 में होने वाले बिहार विधानसभा के चुनाव में राजद नेता तेजस्वी यादव ही सीएम पद के उम्मीदवार होंगे.

तेजस्वी के चेहरे पर लड़ेंगे चुनाव
कुछ ही महीनों तक बिहार में मुख्यमंत्री पद पर रहने वाले ‘हम’ प्रमुख जीतन राम मांझी ने नीतीश कुमार के महागठबंधन में लौटने को लेकर शर्त रखी है. हम प्रमुख मांझी ने कहा, ‘अगर नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद त्यागकर महागठबंधन में शामिल हो जाते हैं तो भी मुझे लगता है कि तेजस्वी प्रसाद 2020 बिहार विधानसभा चुनाव में हमारे महागठबंधन के उम्मीदवार होंगे.’ बिहार में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सहयोगी दलों के बीच बिहार की लोकसभा सीटों के बंटवारे पर भी मांझी ने जदयू को लेकर निशाना साधा. उन्होंने लोकसभा चुनाव में राजग में शमिल जदयू के अधिक सीटों की मांग पर कहा, ‘पिछले लोकसभा चुनाव में जदयू ने सिर्फ दो सीटें ही जीती थीं, ऐसे में अधिक सीटों पर उसका दावा ही नहीं बनता है.’ उल्लेखनीय है कि इसके पहले कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा था कि नीतीश अगर राजग से बाहर आकर महागठबंधन में शामिल होने का प्रस्ताव देते हैं तो इस पर विचार किया जाएगा.

विधि व्यवस्था को लेकर नीतीश पर हमला
पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने बिहार की विधि-व्यवस्था को लेकर भी एक बार फिर नीतीश सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि बिहार में अभी ‘आपातकाल’ से भी बदतर हालत है. उन्होंने कहा कि आज राज्य में महिलाओं के साथ दुष्कर्म की घटनाएं लगातार हो रही हैं. इसको लेकर नीतीश सरकार गंभीर नहीं है. मांझी ने गया के कोच थाने में हाल में हुई गैंगरेप की घटना को लेकर भी नीतीश सरकार को कठघरे में खड़ा किया. उन्होंने कहा कि सरकार को दुष्कर्म के आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी करवानी चाहिए. बता दें कि बिहार में कुछ महीने पहले हुए अररिया लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव से पहले पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से किनारा कर लिया था. उन्होंने राजग को छोड़, राजद की अगुआई वाले महागठबंधन में अपनी पार्टी को शामिल कर लिया था.

Be the first to comment on "महागठबंधन में नीतीश की इंट्री से पहले जीतन राम मांझी ने रखी शर्त"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*