BREAKING NEWS
post viewed 34 times

जल है तो कल है,मुंबई में भारी बारिश के बाद भी बूंद-बूंद को तरसे लोग

सुरेंद्र कुमार

आसमान से बरसती आफत के बाद बुधवार को दोपहर होते-होते बारिश पूरी तरह रुक चुकी थी और तेज धूप निकल आई थी, लेकिन मुसीबतें कम नहीं हुईं। बहुमंजिला इमारतों में रहने वाले नागरिकों के घरों में पानी पहुंचा ही नहीं था, क्योंकि बिजली गुल होने के कारण इमारत की टंकियों में पानी ही नहीं चढ़ाया जा सका था।

वहीं, जिनके पास पीने और अन्य घरेलू कामों के लिए पानी का स्टॉक था, वे बेहद कंजूसी से पानी का इस्तेमाल कर रहे थे, लेकिन जिनके घरों में पानी, खासकर पीने के पानी की सबसे ज्यादा कमी थी, उन्हें एक दुकान से दूसरी दुकान भटकते देखा जा सकता था। बोतलबंद पेयजल की बड़ी-बड़ी बोतलें खरीदने के लिए लोग बेसब्र थे, लेकिन अधिकांश दुकानदारों के पास स्टॉक मंगलवार रात को ही खत्म हो चुका था।विरार (पश्चिम) के डोंगरपाडा, वर्तक रोड, रामनगर, ग्लोबल सिटी, यशवंत नगर जैसे इलाकों में जिन दुकानों से आम दिनों में बोतलबंद पानी की होम डिलिवरी फोन करने के 10 मिनट के भीतर हो जाती थी, उनमें से अधिकतर दुकानों पर ताले लगे थे। जो दुकानें खुली थीं, उनके संचालक ग्राहकों को खाली हाथ लौटाने को विवश थे।

विरार (पश्चिम) के वायके नगर एनएक्स इलाके में रहने वाले इंद्रजीत सिंह को पीने के पानी के लिए देर तक भटकना पड़ा, लेकिन नाकामयाबी ही हाथ लगी। वि‌वशता भरी आवाज में कहा कि पांच सदस्यों का परिवार है। पीने का पानी बहुत कम बचा है। बिजली जल्द आने के आसार दिख नहीं रहे, इसलिए भटकना पड़ रहा है।

Be the first to comment on "जल है तो कल है,मुंबई में भारी बारिश के बाद भी बूंद-बूंद को तरसे लोग"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*