BREAKING NEWS
post viewed 27 times

किसी भी जाति का व्यक्ति बन सकता है मन्दिर का पुजारी पूर्णतया अधिकार :हाई कोर्ट

5818122017124947

सुरेंद्र कुमार

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने गुरुवार को कहा है कि योग्यता पूरी करने वाला किसी भी जाति का व्यक्ति मंदिर का पुजारी बन सकता है और मंदिर में नियुक्त ‘ऊंची’ जाति का कोई पुजारी अनुसूचित जाति या जनजाति के किसी भक्त को पूजा करने से रोक नहीं सकता है। न्यायमूर्ति राजीव शर्मा की अदालत ने ये आदेश अनुसूचित जाति और जनजातियों के व्यक्तियों के मंदिरों में जाने और धार्मिक गतिविधियों के अधिकारों से संबंधित एक याचिका पर सुनवाई के दौरान दिए। 5818122017124947

अदालत ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 18 जुलाई की तारीख नियत करते हुए गढ़वाल आयुक्त को व्यक्तिगत रूप से सुनवाई के दौरान अदालत में मौजूद रहने के भी निर्देश दिए। याचिका में कहा गया है कि हरिद्वार में ‘ऊंची’ जातिवाले पुजारी ‘निचली’ जातिवाले भक्तों से भेदभाव करते हैं और उनकी तरफ से धार्मिक गतिविधियां करने से मना करते हैं।

अदालत ने ‘ऊंची’ जाति वाले पुजारियों से सभी मंदिरों में ‘निचली’ जातियों के सदस्यों की तरफ से पूजा समारोह कराने से इनकार न करने के निर्देश दिए। हाई कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि पूरे प्रदेश में किसी भी जाति से संबंधित सभी व्यक्तियों को बिना किसी भेदभाव के मंदिर में जाने की अनुमति है और सही तरीके से प्रशिक्षित और योग्य किसी भी जाति का व्यक्ति मंदिरों में पुजारी हो सकता है।

Be the first to comment on "किसी भी जाति का व्यक्ति बन सकता है मन्दिर का पुजारी पूर्णतया अधिकार :हाई कोर्ट"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*